मंगलवार, 3 मई 2011

है के नीं...

महाभारत में अेक बात है 'वयं पंचाधिकम शतमÓ इण रौ अरथ ओ क म्हां भलै ईज आपस में लड़तां रैवां। कोई तीजो लड़त मांडै तो म्हें अेक हां। आईपीअेल में आ बात सामीं आवै। अेक टीम में खेलणिया पइसे री बात  पर अलायदा हुय जावै। देस री बात पर अेक।
लारलै अदीतवार जैपुर गयौ मैच देखण नै। घणौ रोळो सुण्यो-इंडियन प्रीमियर लीग रो। छोरयां रे नाचण सूं लेय परो लार लै दिनां अेके सागै खेलण आळा नै आमीं-सामीं खेलण री बात। सैं की पइसां रो खेल। पास हुवौ चायै फेल। पइसा पक्का। सैं इंतजाम। टिगट रा पइसा चुकावौ अर फोगट में खावौ-पीवौ। फोटवां खिंचावौ। पण अे सब जद क थे मांय पूगौ। जगै-जगै जांच। पेन भी ले जावण री रोक। गुटखो अर मोबाइल तो ले जाय ई नी सको। पण अपां किसा कम हा-मोबाइल रो खटको बंद करियो अर मोजा में खसोळ लियो। सिक्योरिटी आळा बापड़ा कईं करता। हाथां में चिंपिया बरगा औजार लिया टंटोळना करया अर फेरूं बोल्यो-आप जा सको। अपां सीधा सवाई मानसिंह स्टेडियम रे मोय। पैली नजर में ईज तरी आयगी। पण अबार तो कईं बातां आवणी है। लाग्यौ इत्ता बडा-बडा खिलाड़ी अर इत्तो सो मैदान?
राजस्थान रॉयल्स अर पुणे वॉरियर्स रे बीचाळै मैच हो। पैली पुणे री टीम खेली-युवराजसिंह तीजै-चौथे डाम आयौ अर ओ जा अर बोई जा हुयगो। टीवी पर छक्का लगावतो भीम बरगो लागै जको युवराज म्हनै तो कोई खास नीं लाग्यो। अर शेन वार्न ने देख र तो भरोसा हुयग्यो क लाई ने सचिन रा सुपणा आय सके। टीवी अर अखबारां में डीगा लागण्या अे खिलाड़ी अठै म्हां जिस्या ही हा। हां, कोई खने म्हां जिस्यो पेट नीं हो तो कोई म्हारै जिस्यो काळो नीं हो। पैली दफै लाग्यो क मीडिया भी इणां ने कीं रो कीं बणावण में कसर नीं राखै। अे टीवी आळा तो भई-रामा ही भजौ। 
अेक बात ठा और पड़ी। टीवी में मैच देखां जणां चौका-छक्का पर लोगों ने झूमता देखां हां नीं। वे छक्का-चौका पर नीं, गाणां री धुनां पर झूमे। अर गाणा भी किस्या-बिस्या ईज।  तो म्हनै ठा पडग़ी असली बात। मैच करावण्या अठै बडा-बडा डीजे लगा मेल्या। जियां ही कोई चौको लगावै। आउट हुय जावै। गाणो बाजै। अेकर तो जोर की हुयी। अठीने छक्को लाग्यो अर दूजी कनै 'मुन्नी बदनाम हुयी...।Ó बात अठे ईज नीं ठैरी। ठा पडिय़ो के सरकार में मंत्राणीजी बीना काक अठै फिल्लम एक्टर  अरबाज खान सागै आयोड़ा है। इण बीच मुन्नी बदनाम हुयी तो ड्यूटी पर खड़ी लुगायां भी मुंडौ लुकार हंसण लागी। वै करै तो कीं करै। पुलिस री ड्यूटी इज इसी है।
खेल तो टेलर रो जोरदार हो। लोग उण नै भारतीय टेलर ज्यूं घड़ी-घड़ी बुलावै अर कैवे टेलर सुण म्हारा कपड़ा सिड़ दिया कईं। बो बापड़ौ कीं और ईज समझतौ अर नाड़ घुमार हंसतौ। इसी ज बोथा सागै हुयी। लोग कैयो मोथो है। भीतड़ी नांव सूं जाणीजतो राहुल द्राविड़ आयौ तो कीं जम्यो। पण इण मैच ने जमावण्या तो दर्शक हा का भांत-भांत रा गाणा। चमकीला कपड़ा पैर परी नाचण खात लायोड़ी छोरयां नै उण दिन राजस्थानी गाभा पैराय दिया। बापड़ी कदै गाभा संभाळती तो कदै आप नै।  लोग उणां पर हंसता रैया। साची कैंवूं तो म्हनै तो जैपर अर बीकाणै में खास फरक लखायौ नीं। हां, फरक हो जको ओ क बीकाणै में इत्ती मैंगी-मैंगी टिगटां बिकती कियां।

म्हनै याद आयौ वो अेसअेमअेस-
सोचो जे आईपीअेल री जगै बीपीअेल-बीकानेर प्रीमियर लीग हुवै तो टीमां रो नोव कियां हुवैला?
- केकेआर-कल्ला नाइट राइडर्स
- आरआर-रामपुरा रॉयल्स
-  पीडी - पुष्करणा डेयरडेविल्स
- आरसीबी-रॉयल चैलेंजर्स भीनासर
- सीअेसके- चौतीना कुआं सुपरकिंग्स
- अेम आई-मुक्ताप्रसाद इंडियंस
- केईपी-किंग्स इलेवन पाटा
है के नीं


- हरीश बी. शर्मा



2 टिप्‍पणियां:

  1. भाई जी, वाह....। पढते पढते इंया लाग्‍यों के जैपुर में ही बैठो हूँ। हंस हंस र पेट दुखा दिया ई बार । टीम्‍यां रो नाम जो..रो लाया हो, छां..टर।
    3 टीम्‍यां रे..गी।
    केटीके - कोडाणा तालाब टस्‍कर
    डीडी
    - धोबीतलाई डेविल्‍स
    डीसी - डागा चार्जर
    हरीशजी, घणे मान सूं आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  2. Bhot Jabro Kaam KAryo ho saa..!! Hansta Hansta ..Pet me Rul Chalgi ..ar Temayaan raa naam to or bhi jabraa ..!!

    उत्तर देंहटाएं